शाहजहांपुर में स्वच्छता अभियान की खुली पोल

उत्तर प्रदेश

 

शाहजहांपुर। शाहजहांपुर जिले में स्वच्छ भारत निर्माण के लिए सरकार के लाख प्रयासों के बाद भी यह अभियान सफल नही हो पाया कागजो में आंकड़ा दिखाकर  प्रशासन ने अपनी पीठ तो थपथपा ली लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। कहने को तो पूरा जिला ही ओ डी एफ घोषित हो चुका है । लेकिन अभी भी बीच शहर में ऐसे भी घर है जहां शौचालय नही है। बजबजाती नालियां, कूड़े के ढेर आज भी पूरे अभियान को मुंह चिढ़ाने का कार्य कर रहे है। लेकिन जन प्रतिनिधि, व प्रशासनिक अधिकारियों पर कोई फर्क नही पड़ता फर्क पड़े भी कैसे क्योंकि शाहजहांपुर महानगर  की इन गलियों में न तो जन प्रतिनिधि ने कदम रखा और न ही किसी प्रशानिक अधिकारी की नजर इन गलियों में पड़ी। खैर छोड़िए हम बताते है आखिर महानगर का कौन सा मोहल्ला ऐसा है जहां अधिकारी, नेता, पुलिस आने से कतराते है। दरअसल शाहजहांपुर के बाडूजई प्रथम जहां देशी अंग्रेजी बीयर की दुकानें है वही पर सरदार मंगल सिंह के मकान के पास से एक गली आर टी ओ आफिस की तरफ जाती है उसी गली में एक मकान ऐसा है जिसमे करीब एक ही परिवार के  10 सदस्य निवास करते है परिवार गरीब है इसलिए शौचालय बनबाने की हैसियत नही मजबूरी में अपना मल मूत्र परिवार के सदस्य नाली में बहाते है। जिसकी बजह से सफाई कर्मी भी इस गली की नालियों की सफाई करने से कतराते है यही नही इस गली के पास एक मां भवानी मंदिर भी है मंदिर के पड़ोस में कूड़े का अम्बार लगा हुआ है जिसकी गंदगी हवा में उड़कर मंदिर के अंदर भगवान के चरणों मे जाती है। कोरोना काल मे भी इस मोहल्ले में साफ सफाई सिर्फ कागजों तक सीमित रह कर रह गयी।


Comment






Total No. of Comments: